Tech News

Snapdeal Partners With Npci To Enable Doorstep Qr Code Payments For Online Orders – Upi Qr पेमेंट के लिए स्नैपडील ने की Npci के साथ साझेदारी

टेक डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Fri, 18 Dec 2020 03:24 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

यदि आप भी इस बात से शिकायत थी कि स्नैपडील पर यूपीआई पेमेंट का विकल्प नहीं तो अब आपकी शिकायत दूर हो गई है। स्नैपडील ने गुरुवार को कहा कि उसने खरीदारों को अपने पते पर सामान प्राप्त करते समय क्यूआर आधारित डिजिटल भुगतान की सुविधा देने के लिए नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) के साथ साझेदारी की है।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि यह सुविधा खासतौर से नए ग्राहकों के लिए है, जो खरीदारी करते समय सामान के लिए पहले भुगतान करने में सजह नहीं हैं। बयान के मुताबिक आपूर्ति की प्रक्रिया के तहत ग्राहकों को अपने पते पर सामान लेते समय क्यूआर कोड से भुगतान का विकल्प दिया जाएगा।

यह सुविधा सभी यूपीआई-भुगतान विकल्पों के साथ काम करेगी, जिसमें भीम, गूगल पे, व्हाट्सएप पे, फोनपे, पेटीएम और यूपीआई एप से जुड़े एचडीएफसी, एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक जैसे प्रमुख निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक शामिल हैं। कंपनी ने बताया कि सहकारी बैंकों और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (आरआरबी) के जरिए भी भुगतान किया जा सकेगा।

यदि आप भी इस बात से शिकायत थी कि स्नैपडील पर यूपीआई पेमेंट का विकल्प नहीं तो अब आपकी शिकायत दूर हो गई है। स्नैपडील ने गुरुवार को कहा कि उसने खरीदारों को अपने पते पर सामान प्राप्त करते समय क्यूआर आधारित डिजिटल भुगतान की सुविधा देने के लिए नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) के साथ साझेदारी की है।

कंपनी ने एक बयान में कहा कि यह सुविधा खासतौर से नए ग्राहकों के लिए है, जो खरीदारी करते समय सामान के लिए पहले भुगतान करने में सजह नहीं हैं। बयान के मुताबिक आपूर्ति की प्रक्रिया के तहत ग्राहकों को अपने पते पर सामान लेते समय क्यूआर कोड से भुगतान का विकल्प दिया जाएगा।

यह सुविधा सभी यूपीआई-भुगतान विकल्पों के साथ काम करेगी, जिसमें भीम, गूगल पे, व्हाट्सएप पे, फोनपे, पेटीएम और यूपीआई एप से जुड़े एचडीएफसी, एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक जैसे प्रमुख निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक शामिल हैं। कंपनी ने बताया कि सहकारी बैंकों और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों (आरआरबी) के जरिए भी भुगतान किया जा सकेगा।

Source link

Leave a Reply