परीक्षाओं के साथ एडमिशन पर भी जारी रखें काम

कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए मार्च महीने से ही सभी स्कूल, कॉलेज, विश्वविद्यालय बंद है लेकिन अनलॉक-4 की गाइडलाइन आने के बाद से शैक्षणिक संस्थानों की भी दोबारा जल्द खुलने की उम्मीद जताई जा रही है. सितंबर माह में सभी परीक्षाओं के काम को पूरा करने के साथ-साथ विश्वविद्यालय अनुदान आयोग(UGC on New Session) ने सभी विश्वविद्यालयों से कहा है कि विद्यार्थियों के प्रवेश का काम भी जारी रखें.

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग का मानना है कि यदि जल्द से जल्द एडमिशन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी तो संस्थानों के खुलने के तुरंत बाद से ही पढ़ाई शुरू की जा सकेगी और यदि संस्थान खोलने में कोई देरी होती है तो ऑनलाइन माध्यम से भी नए सत्र(UGC on New Session) की शुरुआत की जा सकेगी.

इसके अलावा यूजीसी ने कहा कि यदि एडमिशन प्रक्रिया में ज्यादा वक्त लगने की संभावना है तो छात्रों को प्रोविजन प्रवेश भी दिया जा सकता है. जिसकी बाकी प्रक्रिया बाद में पूरी हो जाएगी. बता दें कि सभी विश्वविद्यालयों को 30 सितंबर तक फाइनल ईयर की परीक्षा आयोजित करवानी है इसीलिए कोरोना काल में फाइनल ईयर एग्जाम आयोजित करने की तैयारियां की जा रही है.

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने सभी विश्वविद्यालयों से कहा है कि परीक्षा आयोजित करने की तैयारियों के साथ-साथ नए सत्र(UGC on New Session) के लिए प्रवेश की तैयारियां भी जारी रखें. जिससे विद्यार्थियों और संस्थान का समय खराब ना हो और समय रहते नए शैक्षिक सत्र की शुरुआत की जा सके.

यूजीसी ने ऐसा इसीलिए कहा है क्योंकि पहले ही कोरोना महामारी के कारण नए शैक्षिक सत्र शुरू करने में काफी देरी हो चुकी है. विद्यार्थियों की पढ़ाई का नुकसान ना हो इसीलिए यह फैसला किया गया है कि परीक्षा की तैयारियों के साथ-साथ विश्वविद्यालय प्रवेश की प्रक्रिया भी जारी रखें. क्योंकि यदि समय पर नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत नहीं हो पाई तो इसका असर अगले शैक्षणिक सत्र पर भी पड़ सकता है.

Source link