Haryana

बारिश और ठंड के बावजूद डटे किसान, बोले- जबतक बिल वापसी नहीं, तबतक…

बारिश में भी डटे किसान

बारिश में भी डटे किसान

Kisan Aandolan: तीनों काले कानूनों को रद्द करवाने व एमएसपी पर कानून बनवाने की मांग को लेकर किसान अड़े हुए हैं

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 4, 2021, 2:51 PM IST

पलवल. नए कृषि कानूनों के विरोध में केएमपी-केजीपी एक्सप्रेस-वे के इंटरचेंज पर चल रहा किसानों का धरना चौथे दिन भी जारी है. सुबह हुई हल्की बारिश (Rain) से थोड़ा व्यवधान जरुर हुआ लेकिन किसानों ने पंड़ाल पर प्लास्टिक लेयर डालकर स्थिति संभाला लिया. किसानों (Farmers) का कहना है कि जब तक बिल वापसी नहीं तब तक घर वापसी नहीं.

तीनों काले कानूनों को रद्द करवाने व एमएसपी पर कानून बनवाने की मांग को लेकर किसान अड़े हुए हैं. बता दें कि एनएच-19 पर गांव अटोहां चौक पर पिछले 57 दिनों तक किसानों का धरना निरंतर जारी रहा. लेकिन गणतंत्र दिवस वाले दिन दिल्ली में हुए उपद्रव के बाद पुलिस प्रशासन गत 28 जनवरी को धरना समाप्त करा दिया था. लेकिन पलवल किसानों ने साहस दिखाते हुए दोबारा से धरना एक फरवरी से शुरू कर दिया.

पंडाल मेंं डाली गई प्लास्टिक की लेयर

धरना स्थल पर चौथे दिन सुबह सर्द हवा के साथ-साथ हल्की बारिश भी हुई जिससे थोड़ा सा व्यवधान जरुर हुआ. लेकिन किसानों ने स्थिति को संभालते हुए बरसात से बचने के इंतजामात शुरु कर दिए. गांव अटोहां निवासी किसान कल्लू व पलवल निवासी इरफान खान का कहना है कि बरसात की स्थिति को देखते हुए पंडाल पर प्लास्टिक लेयर डाली गई है जिससे बरसात का पानी टेंट के अंदर न जाए.किसानों ने कही ये बात

वहीं उन्होंने कहा कि खाद्यय सामग्री से लेक पीने तक पानी की व्यवस्था किसानों द्वारा स्वंय की गई है. प्रशासन की तरफ से यहां पर न तो कोई मोबाइल टॉयलेट का प्रबंध है और ही बिजली कोई व्यवस्थ की गई है. किसानों ने स्वंय जरनेटर का प्रबंध किया हुआ है. किसानों का कहना है कि सरकार अपनी हट धर्मिता पर अड़ी है तो किसान भी पीछे हटने वाले नहीं है. जब तीनों काले कानून रदद् नहीं होते व एमएसपी पर कानून नहीं बनता तब तक आंदोलन निरंतर जारी रहेगा चाहे कितना भी समय क्यों न लग जाए.







Source link

Leave a Reply