Haryana

Fatehabad Haryna: Corona positive girl student of JBT reached to attempt the exams in Fatehabad | कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद पेपर देने पहुंची ट्रेनी टीचर, बोली- दादा का सपना पूरा करना है

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Fatehabad Haryna: Corona Positive Girl Student Of JBT Reached To Attempt The Exams In Fatehabad

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फतेहाबाद10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फतेहाबाद के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में अलग बैंच पर बैठकर परीक्षा देती जेबीटी की छात्रा यामिनी।

  • फतेहाबाद के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में देखने काे मिला अलग ही नजारा
  • टोहाना की जूनियर बेसिक ट्रेनिंग की छात्रा यामिनी बोली-प्रिंसिपल ने मना किया था परीक्षा देने से

एक ओर जहां देश-दुनिया कोरोना संक्रमण से जूझ रही है, वहीं इससे जंग लड़ने वालों के हौसले भी कुछ कम नहीं हैं। इसी बीच हरियाणा के फतेहाबाद से एक मामला सामने आया है, जब टीचर बनकर अपने दादा का सपना पूरा करने की ठान चुकी एक होनहार ने संक्रमण की परवाह नहीं की। कोरोना पॉजिटिव होने के बावजूद वह परीक्षा देने पहुंची है। JBT की यह छात्रा रोज एंबुलेंस से परीक्षा केंद्र आती और जाती है। हालांकि ऐहतियात के तौर पर उसे दूसरे विद्यार्थियों से दूर ही अकेले ही बिठाया जाता है।

फतेहाबाद के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में शनिवार को एक अलग ही नजारा देखने को मिला। यहां JBT (जूनियर बेसिक ट्रेनिंग) की परीक्षा चल रही थी। काफी सारे विद्यार्थी एक साथ परीक्षा दे रहे थे, वहीं एक छात्रा अलग से एक बैंच पर बैठी अपनी मेहनत को कागज पर उतारने में व्यस्त थी। बात करने पर पता चला कि जिले के कस्बा टोहाना की यामिनी नामक यह लड़की कोरोना पॉजिटिव है और इसी के चलते उसे अलग से बिठाया गया है।

छात्रा बोली-प्रिंसिपल ने कहा था परीक्षा न दें
छात्रा यामिनी ने बताया कि कुछ दिन पहले उसके दादा मास्टर पूर्णचंद की कोरोना से मौत हो गई थी। इसके बाद परिवार के सभी सदस्यों के परीक्षा ली गई। इस दौरान वह भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई। JBT की तैयारी कर रही है। वह JBT द्वितीय वर्ष की छात्रा है। कोरोना पॉजिटिव आने के बाद पहले हमारे कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा कि वह परीक्षा देने न जाएं। अगली बार परीक्षा दें, लेकिन वह नहीं मानी। यामिनी की मानें तो उसके दादा का सपना है कि वह JBT शिक्षक बने और उसने इस सपने का पूरा करने के लिए इस महामारी होने के चलते परीक्षा देने की ठान ली। इसके बाद जब परीक्षा सेंटर में पहुंची । यहां भी सेंटर के प्रशासन ने एक बार परीक्षा देने से रोकना चाहा, लेकिन बाद में उसे अलग बिठाया गया।

परीक्षा के दौरान एंबुलेंस छोड़ने व लेने आती है
कोरोना पॉजिटिव छात्रा को स्वास्थ्य विभाग की एंबुलेंस टोहाना से लेकर फतेहाबाद के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में पहुंचती है। जब परीक्षा खत्म होती है तो एंबुलेंस ही उसे लेकर वहां टोहाना ले जाती है। इस दौरान स्कूल प्रशासन सतर्कता बरतता है। किसी को भी छात्रा के पास नहीं जाने दिया जाता है। वहीं छात्रा के जाने के बाद स्कूल को सैनिटाइज करवाया जाता है।

Source link

Leave a Reply