Haryana

हरियाणा में गलत खातों के चलते 48 हजार किसानों की धान की पेमेंट अटकी

इस कारण किसानों की पेमेंट अटक गई

इस कारण किसानों की पेमेंट अटक गई

आढ़तियों को कहा गया है कि उनके खातों में पेमेंट आने के 3 दिनों में किसानों (Farmers) के खातों में पेमेंट (Payment) करनी होगी.

चंडीगढ़. हरियाणा में किसानों (Farmers) की दिवाली धूमधाम से मनाने के लिए प्रदेश सरकार ने किसानों को धान की बकाया पेमेंट भुगतान करने की प्रक्रिया तेज कर दी थी. हरियाणा सरकार (Haryana Government) सीधे किसानों के खाते में उनकी धनराशि भेज रही थी. हरियाणा सरकार को करीब 11 हजार करोड रुपए की पेमेंट धान के किसानों को करनी है इसमें से करीब साढे नौ हजार करोड़ की पेमेंट कब तक हो चुकी है .चंडीगढ़ में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास ने जानकारी दी है कि हरियाणा में अभी तक 54 लाख मीट्रिक टन धान सरकार  खरीद चुकी है. इस बार 55 से 56 लाख  मीट्रिक टन धान खरीद होने का अनुमान है.

दास ने कहा 8 लाख टन के करीब इस बार खरीद कम होने का अनुमान है क्योंकि ट्रेडर्स से खरीद नही की जा रही है. पीके दास ने बताया कि अब तक साढ़े 9 हजार करोड़ की धान की पेमेंट अब तक हो चुकी है. हरियाणा धान के करीब साढ़े 7 लाख किसानों ने  पंजीकरण कराया था लेकिन इनमें से मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल में 48 हजार किसानों के खाता नंबर गलत पाए गए हैं जिसके चलते चेक रिफण्ड हुए हैं. ऐसे किसानों को एसएमएस या फ़ोन कॉल के माध्यम से फिर ठीक जानकारी अपलोड करवाने को कहा गया है.

आढ़तियों को पेमेंट आने के 3 दिनों में किसानों के खातों में पेमेंट करनी होगी

दास ने कहा साढ़े 7 से 8 लाख रजिस्टर किसान है जिसमे से 4 लाख की पेमेंट आढ़तियों के माध्यम से जबकि साढ़े 3 लाख की सीधी खातों में पेमेंट हुई है. पीके दास ने कहा धान खरीद की पॉलिसी के तहत आढ़तियों को कहा गया है कि उनके खातों में पेमेंट आने के 3 दिनों में किसानों के खातों में पेमेंट करनी होगी. दास ने कहा कि 3 दिन से देरी करने वाले आढ़तियों से इंटरेस्ट कवर कर किसानों को दिया जाएगा.



Source link

Leave a Reply