Haryana

Low-density lipoprotein released from egg yolk is quality complete | अंडे की जर्दी से निकलने वाला लो-डेंसिटी लिपोप्रोटीन है गुणवत्ता पूर्ण

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हिसारएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

डॉ. जसमेर दलाल।

  • लुवास के वैज्ञानिक डाॅ. जसमेर दलाल लंबे समय से जर्दी पर रिसर्च कर रहे थे, वीसी ने की सराहना

अंडे की जर्दी की अपेक्षा उससे निकलने वाला लो-डेंसिटी लिपोप्रोटीन अधिक गुणवत्ता पूर्ण है। लुवास के वैज्ञानिकाें की रिसर्च में यह खुलासा हुआ है। इससे भैंस के गर्भवती होने का स्तर भी बढ़ेगा। जिससे किसान की भी आमदनी हाेगी, क्याेंकि कई बार गर्भवती नहीं हाेने के कारण किसान काे चारा आदि के रूप में काफी रुपये खर्च करने पड़ जाते हैं। लुवास के वैज्ञानिक डॉ. जसमेर दलाल का पीएचडी शोध एक सम्मानित इंटरनेशनल जर्नल मोलिकुलर रीप्रोडक्शन एंड डिवेपलमेंट में प्रकाशित हुआ।

लुवास से मादा पशु एवं प्रसूति विभाग विभागाध्यक्ष डॉ. आरके चंदोलिया डॉ. जसमेर दलाल के प्रमुख सलाहकार रहे। डॉ. दलाल ने ये शोध केन्द्रीय भैंस अनुसंधान संस्थान हिसार की सीमन फ्रीजिंग प्रयोगशाला में वैज्ञानिक डॉ. प्रदीप कुमार के मार्गदर्शन में किया। डॉ. जसमेर ने बताया कि आम तौर पर अंडे की जर्दी (योक) सीमन क्रायोप्रिजर्वेशन (हिमांक सरंक्षण) (सीमन से बीज बनाने) करने वाले द्रव का महत्वपूर्ण घटक हाेता है, जो भैंसे के शुक्राणुओं को क्रायोप्रिजर्वेशन (हिमांक संरक्षण) के दौरान निष्क्रिय होने से बचाता है।

अंडे की जर्दी (योक) में लो-डेंसिटी (कम घनत्व) लिपोप्रोटीन इसका सक्रिय घटक है, जो भैंसे के शुक्राणुओं को क्रायोप्रिजर्वेशन (हिमांक सरंक्षण) के दौरान निष्क्रिय होने से बचाता है। लो-डेंसिटी (कम घनत्व) लिपोप्रोटीन के अलावा बाकी पदार्थ भैंसे के शुक्राणुओं को नुकसान पहुंचाते हैं।

भैंस के गर्भवती होने का स्तर बढ़ेगा

विवि के वैज्ञानिकाें ने पहली बार अंडे की जर्दी से निकाले जाने वाले लो-डेंसिटी लिपोप्रोटीन की पहचान की है। अब इससे भैंस के गर्भवती हाेने का स्तर भी बढ़ सकेगा। किसान काे भी आमदनी हाेगी। – डाॅ. गुरदयाल सिंह, कुलपति, लुवास।

Source link

Leave a Reply