Haryana

11 thousand kV power line touching the roofs of houses | मकानों की छतों को छू कर निकल रही 11 हजार केवी की बिजली लाइन

झोझू कलां2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

कस्बे की रिहायशी अजा कालोनी तथा आसपास के स्थानों में रहने वाले ग्रामीणों को बिजली विभाग की लापरवाही के कारण काफी परेशानियों व विकट स्थिति से दो चार होना पड़ रहा है। इन दोनों ही स्थानों से बिजली सप्लाई के लिए विभाग द्वारा झोझू-पिचौपा सप्लाई के लिए निकाली गई 11 केवी 11 हजार हाई वोल्टज लाईन काफी नीचे होने के कारण कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।

इससे पहले भी ऐसी ही हाई वोल्टेज 33 केवी 11 हजार की लाईन को विभाग द्वारा ग्रामीणों के बार बार गुहार करने पर हटाया गया है। लेकिन वर्तमान में दूसरी हाई वोल्टेज लाईन बड़े हादसे को न्यौता दिया जा रहा है। ऐसा नहीं है कि ग्रामीणों ने इस समस्या को दूर करवाने के लिए मांग न उठाई हो, बल्कि सीएम विंडो में शिकायत देने, प्रदेश सरकार मंत्री, बड़े प्रशासनिक अधिकारियों तक के सामने गुहार लगाई जा चुकी है, लेकिन नतीजे आज भी वही ढाक के तीन पात वाला ही निकला है।

ग्रामीणों अजमेर, सतपाल, संजय, रोशन, रामकुमार, सुभाष, बाबू लाल, कल्लू, जले, सुमन, प्रवीन, कविता, रविना, लाली, संतोष, उषा, रामप्यारी, इंदु सहित अन्यों ने बताया कि पिछले कई सालों से यह समस्या बनी हुई है। यहां पर जब से रिहायशी हरिजन कालोनी की बसावट करीब 21 साल पहले आरंभ हुई थी तभी से ग्रामीणों द्वारा लगातार इन हाई वोल्टेज के तारों को हटवाने की लगातार गुहार लगाई जा रही है। कई मकानों की छतों पर यह तारे इतनी निकट है कि अगर कोई बच्चा भी हाथ उठा कर इन्हें छू ले तो करंट लग सकता है।

ऐसा नहीं है कि कोई दुर्घटना न हुई हो, कई बार करंट की चपेट में आ चुके हैं। लगता है कि बिजली विभाग, प्रशासन व राज्य सरकार किसी बड़ी दुर्घटना होने का इंतजार कर रहे हैं। पिछले कई सालों से लगातार अधिकारियों, मंत्रियों के दरबारों में इस मामले को उठाया जा चुका है, लेकिन कोई भी निजात मिलने की सूरत आज तक दिखाई नहीं दी है। सीएम विंडो सहित हिसार विद्युत विभाग मुख्यालय तक को सारी परेशानी को प्रार्थना पत्र के जरिए अगवत करवाया जा चुका है लेकिन आज तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। ग्रामीणों ने बताया की बरसात व सर्दी के धुंध भरे मौसम में तो खतरा और अधिक हो जाता है। प्रदेश सरकार, विद्युत विभाग, प्रशासन के समक्ष उनकी समस्या के स्थाई हल को जल्द से जल्द करने की मांग को उठाया है।

Source link

Leave a Reply