Om Prakash Dhankhar became Haryana BJP new state president | पूर्व मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ बने हरियाणा भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष

पानीपत15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भारतीय जनता पार्टी के हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़।

  • हरियाणा भाजपा की पिछली सरकार में धनखड़ थे कृषि मंत्री
  • आरएसएस से जुड़ने के बाद राष्ट्रीय किसान मोर्चा की संभाली थी कमान

पिछले कई महीनों से भाजपा प्रदेशाध्यक्ष को चुनने को लेकर चल रही कवायद आखिरकार रविवार को खत्म हो गई। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ओमप्रकाश धनखड़ को प्रदेशाध्यक्ष नियुक्त किया है। राष्ट्रीय महासचिव एवं भाजपा मुख्यालय प्रभारी अरूण सिंह ने पत्र जारी कर इसकी जानकारी दी है। 

2014 में बादली विधानसभा से चुनाव जीतकर पहुंचे थे विधानसभा

2014 में मनोहर लाल खट्टर सरकार के पहले कार्यकाल में धनखड़ बादली विधानसभा से चुनकर विधायक बने थे। इसके बाद उन्हें कृषि, मत्स्य, नहरी मंत्री बनाया गया था। 2019 के चुनाव में धनखड़ हरियाणा के उन भाजपाई मंत्रियों में शामिल थे जो चुनाव हार गए थे। इससे पहले के उनके राजनीतिक करियर की बात करें तो वे 1978 में राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ से जुड़ गए थे। इसके बाद विद्यार्थी जीवन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में काम किया। उन्होंने धीरे-धीरे संगठन में अपनी जगह बनाई। भाजपा की राष्ट्रीय व क्षेत्रीय इकाइयों में कई पदों पर रहे। वे लंबे समय तक किसान मोर्चा से जुड़े रहे। इस वजह से देशभर के भाजपा नेता उन्हें व्यक्तिगत जानते हैं।

प्रदेशाध्यक्ष के नाम को लेकर काफी लंबे समय से चल रही थी कवायद

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष को लेकर लॉकडाउन से पहले चर्चा शुरू हो गई थी। कृष्णपाल गुर्जर, संदीप जोशी, कैप्टन अभिमन्यु, सुभाष बराला और ओमप्रकाश धनखड़ का नाम चल रहा था। शुरूआत में कयास लगाए जा रहे थे कि सुभाष बराला को ही दोबारा जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इसके बाद केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर का नाम सबसे आगे था लेकिन भाजपा संगठन में उनके नाम पर भी सहमति नहीं बनी। अनलॉक शुरू होने के बाद लगातार सीएम मनोहर लाल खट्टर ने दिल्ली दरबार में चक्कर लगाए। पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की। इसके बाद नाम तय हुआ है। 

भाजपा का जाट कार्ड, जाटलैंड से चुना प्रदेशाध्यक्ष

धनखड़ को प्रदेशाध्यक्ष चुनकर भाजपा ने जाट कार्ड खेल दिया है। धनखड़ जाटलैंड रोहतक से हैं, जहां कांग्रेस के जाट नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा का दबदबा माना जाता है। धनखड़ को चुने जाने के पीछे कई फैक्टर जुड़े थे। वे लंबे समय से आरएसएस से जुड़े रहे हैं, भाजपा के साथ-साथ संघ को भी उनके प्रदेशाध्यक्ष बनने पर कोई आपत्ति नहीं थी। अनुभव भी धनखड़ का प्लस प्वाइंट रहा है। वे संगठन में लंबे समय से काम कर रहे हैं। भाजपा के किसान मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके हैं, इसके साथ-साथ अन्य पदों पर भी रहे हैं। पिछली सरकार में कैबिनेट मंत्री होने का अनुभव भी उनके पास है। भाजपा ने ठीक बरोदा उपचुनाव से पहले धनखड़ को प्रदेशाध्यक्ष घोषित किया है, ताकि हुड्डा के दबदबे वाली बरोदा सीट पर चुनावी फायदा उठाया जा सके। 

0

Source link