India

Farmers Protest: Center to hold 9th round of talks with Farmers on Friday | केंद्र के साथ 9वें दौर की वार्ता तय करेगी Farmers Protest का रुख

नई दिल्ली: नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में पिछले करीब 50 दिनों से राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) की सीमाओं पर किसानों का प्रदर्शन (Farmers Protest) जारी है. वे आज भी कानूनों को रद्द कराने की मांग पर अड़े हैं. लेकिन सरकार प्रवाधानों में बदलाव करते हुए तीनों कानूनो को बरकरार रखना चाहती है. इसी के चलते केंद्र सरकार (Central Government) शुक्रवार को किसान संगठनों के साथ 9वें दौर की वार्ता कर कानूनों पर सहमति बनाने का प्रयास करेगी.

शुक्रवार सुबह 12 बजे शुरू होगी बैठक

किसान प्रतिनिधियों के साथ विज्ञान भवन (Vigyan Bhawan) में यह वार्ता शुक्रवार सुबह 12 बजे शुरू होगी. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने गुरुवार को कहा, ‘सरकार को उम्मीद है कि किसानों के साथ अगले दौर की वार्ता सकारात्मक रहेगी. इस बैठक में भारतीय किसान यूनियन (लाखोवाल) के जनरल सेक्रेटरी हरिंदर सिंह लाखोवाल भी शामिल होंगे. वार्ता के मुख्य विषय पर चर्चा करते हुए हरिंदर सिंह ने कहा कि किसानों की सिर्फ दो मांगें बची हैं जो प्रमुख हैं. इनमें से पहली मांग तीन कृषि कानूनों को निरस्त करने की है. इस मांग के पूरे होने पर ही किसान नेता दूसरी मांग पर चर्चा करेंगे.

ये भी पढ़ें:- NCERT की किताबों में पढ़ाया जा रहा मुगलों का ‘आधारहीन’ इतिहास? विभाग के पास नहीं जवाब

कानूनों के अमल पर SC ने लगाई रोक

बताते चलें कि कृषि कानूनों पर केंद्र सरकार के साथ हुईं 8 दौर की वार्ताएं बेनतीजा रही हैं. इस बीच सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने नए कृषि कानूनों और किसानों के आंदोलन को लेकर दायर याचिकाओं पर सुनवाई के बाद मंगलवार को इन कानूनों के अमल पर रोक लगा दी और शीर्ष अदालत ने मसले के समाधान के लिए विशेषज्ञों की एक कमेटी का गठन कर दिया, जिसमें चार सदस्यों को नामित किया गया है. हालांकि कमेटी में शामिल एक सदस्य भाकियू नेता भूपिंदर सिंह मान (Bhupinder Singh Mann) ने खुद को कमेटी से अलग करने की घोषणा की है.

ये भी पढ़ें:- कोरोना से दुनिया को दहलाने वाले चमगादड़ की मिली नई प्रजाति, कलर ने किया वैज्ञानिकों को भौंचक्‍का

40 संगठनों की अगुवाई में चल रहा प्रदर्शन

हालांकि आंदोलनकारी किसान संगठनों ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित कमेटी के सामने जाने से मना कर दिया है. दिल्ली की सीमाओं पर डटे किसानों का कहना है कि जब तक नए कृषि कानून वापस नहीं होंगे तब तक उनका आंदोलन चलता रहेगा. दिल्ली की सीमाओं पर स्थित प्रदर्शन स्थल सिंघु बॉर्डर (Singhu Border), टिकरी बॉर्डर (Tikri Border) और गाजीपुर बॉर्डर (Ghazipur Border) पर संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले देश के करीब 40 किसान संगठनों के नेताओं की अगुवाई में किसानों का प्रदर्शन चल रहा है.

(इनपुट- IANS से भी)

LIVE TV



Source link

Leave a Reply