India

Assam woman seen bowing in front of a piped waterline, The video gone viral on social media | जब नल से पानी आता देख महिला ने किया जल को प्रणाम, वायरल हो गया Video

दिसपुरः पानी की कद्र वही कर सकता है जिसके परिवार के लोग इसकी बूंद-बूंद के लिए तरसे हों. ऐसी जगहों पर जब पहली बार टंंकी से पानी आता है तो वहां के लोग नल को ही ईश्वर समझते हैं और उसे प्रणाम करते हैं. सोशल मीडिया (Social Media) पर ऐसा ही एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें एक महिला नल को देवता मानकर प्रणाम करती दिख रही है. इस वीडियो न सिर्फ आम यूजर्स बल्कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) की ओर से भी इसे शेयर किया गया है. 

60 साल की उम्र में पहली बार देखा नल से आता पानी

वीडियो में जो महिला दिख रही है वो असम (Assam) से ताल्लुक रखती है. इनके घर में जब सरकारी नल से पानी पहुंचा तो इन्होंने नल और जल दोनों को हाथ जोड़कर प्रणाम किया. महिला की उम्र 60 साल बताई जा रही है, जिन्होंने अब तक की जिंदगी में कभी नल से आते हुए पानी नहीं देखा था. लेकिन जब ये सपना सच हुआ तो वे खुशी में उन्होंने पानी को प्रणाम किया. महिला नल और पानी के आगे इस तरह के नतमस्तक हुई कि मानों कई सालों की तपस्या पूरी हो गई हो. सोशल मीडिया पर असम की इस महिला का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.

ये भी पढ़ें-WB: राज्यपाल जगदीप धनखड़ का बड़ा आरोप, बंगाल में पैर पसार रहा है अलकायदा

केंद्रीय मंत्री ने शेयर किया वीडियो

केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत (Gajendra Singh Shekhawat) ने इस वीडियो को ट्वीट करते हुए लिखा है कि असम की यह बहन अपने घर में ‘नल से जल’ का स्वागत सिर झुकाकर ईश्वर का धन्यवाद देते हुए कर रही हैं. प्रधानमंत्री मोदी (Narendra Modi) जी द्वारा संकल्पित जल जीवन मिशन स्वतंत्रता के वर्षों बाद तक जल जैसी मूलभूत आवश्यकता की कमी झेल रहे लोगों के जीवन को कैसे परिवर्तित कर रहा है यह इस वीडियो से स्पष्ट है.

2019 में हुई थी जल जीवन मिशन योजना की शुरुआत

मालूम हो कि 15 अगस्त 2019 को केंद्र सरकार की ओर से जल जीवन मिशन योजना (Jal Jeevan Mission) का ऐलान किया गया था और डेढ़ साल में ही सरकार ने 2 करोड़ 78 लाख घरों में नल से जल पहुंचा दिया है. इस मिशन को लेकर गजेंद्र सिंह शेखावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2024 तक सभी ग्रामीण परिवारों को सही गुणवत्ता और सही मात्रा में पेयजल उपलब्ध कराने का संकल्प लिया है. उन्होंने कहा कि पिछले 70 वर्षों में सभी प्रयासों के बावजूद केवल 15-16 प्रतिशत, जो कि कुछ 3.23 करोड़ घर हैं, को पानी मिलता है. उन्होंने आगे कहा, जल शक्ति मंत्रालय ने सिर्फ एक साल में 3.23 करोड़ और घरों को पानी मुहैया कराया है. 

ये भी पढ़ें-Netaji Subhash Chandra Bose की 125वीं जयंती मनाने के लिए बनी 85 सदस्यीय कमेटी, इन्हें मिला स्थान

हर रोज 1 लाख घरों को मिल रहा नल कनेक्शन 

सरकारी बयान के अनुसार, जल जीवन मिशन की शुरुआत अगस्त, 2019 में हुई था और  मार्च 2020 के 7 महीनों में लगभग 84.83 लाख ग्रामीण घरों को नल कनेक्शन उपलब्ध कराए जा चुके थे. इसके अलावा, कोविड-19 महामारी के बीच अनलॉक-1 के बाद वर्ष 2020-21 में लगभग 45 लाख नल कनेक्शन उपलब्ध करा दिए गए हैं. इस तरह से योजना के तहत हर रोज करीब 1 लाख घरों को नल कनेक्शन उपलब्ध कराए जा रहे हैं, जिससे काम की गति का पता चलता है. पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए, हर संपदा की जिओ-टैगिंग की जा रही है और कनेक्शनों को ‘परिवार के मुखिया’ के ‘आधार’ से जोड़ा जा रहा है.

LIVE TV



Source link

Leave a Reply