India

Comedian Kunal Kamra wrote an open letter to the Attorney General on social media – No apology no fine | अवमानना केस की मंजूरी पर कुणाल कामरा लिखा- न माफी मांगूंगा, न जुर्माना भरूंगा

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

कुणाल कामरा एक स्टैंडअप कॉमेडियन हैं और कई ओटीटी प्लेटफार्म पर इनके शो आ चुके हैं।

सुप्रीम कोर्ट के जजों के बारे में विवादित ट्वीट करने वाले कॉमेडियन कुणाल कामरा ने फिर एक ट्वीट किया है। कुणाल ने ट्विटर पर अपने खिलाफ अवमानना का केस शुरू करने की मंजूरी देने वाले अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल के नाम एक चिट्ठी पोस्ट की है। इसे शेयर करते हुए कुणाल ने लिखा- कोई वकील नहीं, कोई माफी नहीं, कोई जुर्माना नहीं।

मुझे अच्छी ऑडियंस पसंद आती हैं: कुणाल
कुणाल ने लिखा- डियर जजेस, मिस्टर केके वेणुगोपाल, मैंने हाल ही में जो ट्वीट किए उन्‍हें कोर्ट की अवमानना बताया गया है। मेरे ट्वीट्स सुप्रीम कोर्ट के एक प्राइम टाइम लाउडस्पीकर के फेवर में दिए गए भेदभाव भरे फैसले के खिलाफ मेरा अपना नजरिया था। मुझे अदालत लगाने में बड़ा मजा आता है और अच्‍छी ऑडियंस पसंद आती है। सुप्रीम कोर्ट के जज और देश के टॉप लॉ ऑफिसर जैसी ऑडियंस शायद सबसे वीआईपी हो। लेकिन, मुझे रियलाइज हुआ है कि मैं कहीं भी परफॉर्म करूं, सुप्रीम कोर्ट के सामने वक्‍त मिल पाना रेयर होगा।

कुणाल ने कहा- मेरी राय नहीं बदली है

कुणाल ने लिखा- मेरी राय नहीं बदली है, क्‍योंकि दूसरों की निजी आजादी पर सुप्रीम कोर्ट की राय बिना आलोचना के नहीं गुजर सकती। मैं अपने ट्वीट्स वापस लेने या उनके लिए माफी मांगने वाला नहीं हूं। मेरा भरोसा है कि उनमें ठीक बात कही गई है। मैं अपने खिलाफ अवमानना याचिका की तरह ही उन लोगों को भी सुनवाई का समय मिलने की उम्‍मीद रखता हूं, जो मेरी तरह लकी नहीं हैं। नोटबंदी से जुड़ी, J&K के विशेष दर्जे को रद्द करने वाले फैसले के खिलाफ, इलेक्‍टोरल बॉन्‍ड्स की कानूनी वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं और कई दूसरे मामलों को सुनवाई की ज्‍यादा जरूरत है। सीनियर एडवोकेट हरीश साल्‍वे जी, अगर मेरी सुनवाई का समय ज्‍यादा अहम मामलों को मिलेगा तो क्‍या आसमान फट पड़ेगा?”

मेरे ट्वीट्स को अवमानना कहने से पहले जज हंसेंगे

कुणाल ने कहा- सुप्रीम कोर्ट ने अभी तक मेरे ट्वीट्स को लेकर कुछ भी डिक्लेयर नहीं किया है। लेकिन वे जब भी ऐसा करें, तो मैं उम्‍मीद करता हूं कि अवमानना घोषित करने से पहले वे थोड़ा हंसेंगे। अपने एक ट्वीट में मैंने सुप्रीम कोर्ट में महात्‍मा गांधी की जगह हरीश साल्‍वे की फोटो लगाने को कहा था। अब मैं कहूंगा कि पंडित नेहरू की फोटो हटाकर महेश जेठमलानी की फोटो लगा दी जाए।

अर्नब के जन्मदिन पर चप्पल गिफ्ट करने पहुंचे थे कुणाल

इससे पहले कुणाल कामरा ने इंडिगो की मुंबई से दिल्ली आ रही फ्लाइट में रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी को ‘कायर’ कहकर भड़काने का प्रयास किया था। हंगामे पर संज्ञान लेते हुए इंडिगो समेत कई फ्लाइट्स ने उन पर 6 महीने की पाबंदी लगाई थी। अर्नब के जन्मदिन पर भी कुणाल, फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप के साथ उन्हें चप्पल गिफ्ट करने पहुंचे थे। इसको लेकर सोशल मीडिया में खूब चर्चा हुई थी।

डिजाइनर की सुसाइड के केस में हुई थी अर्नब की गिरफ्तारी

अर्नब को 2018 में एक इंटीरियर डिजाइनर नाइक और उनकी मां को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में 4 नवंबर को पुलिस ने उनके घर से गिरफ्तार किया था। बॉम्बे हाईकोर्ट से जमानत न मिलने के बाद अर्नब ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। सुप्रीम कोर्ट ने अर्नब गोस्वामी और अन्य दो आरोपियों को 50-50 हजार रुपए के निजी मुचलके पर बुधवार को जमानत दे दी थी।

Source link

Leave a Reply