India, US nuclear deal 12 years ago, the entire hockey team died in the plane crash of Russia 9 years ag | भारत के भविष्य पर चर्चा के लिए लंदन में दूसरा गोलमेज सम्मेलन शुरू हुआ था, गांधीजी और कांग्रेस ने पहली बार हिस्सा लिया था

  • Hindi News
  • National
  • India, US Nuclear Deal 12 Years Ago, The Entire Hockey Team Died In The Plane Crash Of Russia 9 Years Ag

29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

आज का दिन भारत के इतिहास का बेहद महत्वपूर्ण दस्तावेज है। 1931 में आज ही के दिन से लंदन में दूसरा गोलमेज सम्मेलन शुरू हुआ था, जिसमें महात्मा गांधी के साथ-साथ कांग्रेस के नेता भी शामिल हुए थे। वैसे, यह सम्मेलन पूरी तरह नाकाम रहा था। भारत लौटते ही महात्मा गांधी और कांग्रेस के कई नेताओं को कैद कर लिया गया था।

इसी सम्मेलन के दौरान गांधीजी के बारे में फ्रैंक मॉरिस ने कहा था, ‘एक अधनंगे फकीर को ब्रिटिश प्रधानमंत्री से बातचीत के लिए सेंट जेम्स पैलेस की सीढ़ियां चढ़ने का नजारा अपने आप में अनोखा और दिव्य प्रभाव पैदा करने वाला था।’

ब्रिटेन ने भारत में संवैधानिक सरकार के लिए 1930 में प्रयास शुरू कर दिए थे। इसी सिलसिले में तीन गोलमेज सम्मेलन हुए। वैसे, इन्हीं सम्मेलनों का नतीजा था कि 1935 में गवर्नमेंट ऑफ इंडिया एक्ट पारित हुआ। इसमें जनता की प्रांतीय स्वायत्तता की मांग को मान लिया गया था।

भारत-अमेरिका में न्यूक्लियर डील

12 साल पहले मनमोहन सिंह प्रधानमंत्री थे और यूपीए सरकार का वह पहला कार्यकाल था। उस समय सिंह ने लेफ्ट पार्टियों के विरोध के बावजूद अमेरिका से न्यूक्लियर डील की। इस ऐतिहासिक डील पर 2008 में आज ही के दिन साइन हुए थे।

इस डील के बाद भारत ने अपनी नागरिक और सैन्य परमाणु गतिविधियों को अलग किया। अमेरिका ने भारत को न्यूक्लियर रिएक्टर बेचने, टेक्नोलॉजी के ट्रांसफर और यूरेनियम की बिक्री पर सहमति जताई थी।

2008 में न्यूक्लियर डील के दौरान भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश।

2008 में न्यूक्लियर डील के दौरान भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश।

विमान हादसे में रूसी हॉकी टीम की मौत

2011 में आज ही के दिन एक विमान हादसे में रूस के आइस हॉकी क्लब की पूरी टीम की जान चली गई थी। मॉस्को से करीब 300 किलोमीटर उत्तर में स्थित यारोसलावल शहर के पास तुनोशना एयरपोर्ट से उड़ान भरने के तुरंत बाद रूसी विमान याकोवलेव याक-42 क्रैश हो गया। इस हादसे में लोकोमोटिव यारोस्लाव आइस हॉकी की पूरी टीम समेत 43 लोगों की मौत हो गई थी। मृतकों में 11 देशों के खिलाड़ी और कोच शामिल थे।

दुर्घटनाग्रस्त विमान याक-42

दुर्घटनाग्रस्त विमान याक-42

इतिहास के पन्नों में आज के दिन को इन घटनाओं के लिए भी याद किया जाता है…

  • 1701: जर्मनी, इंग्लैंड और नीदरलैंड ने फ्रांस विरोधी समझौते पर हस्ताक्षर किए।
  • 1902ः ऑस्ट्रेलिया में भयानक सूखा पड़ने के बाद देशभर के लोगों ने बारिश के लिए एक साथ ईश्वर से प्रार्थना की।
  • 1906ः बैंक ऑफ इंडिया की स्थापना हुई।
  • 1923ः वियना में इंटरपोल की स्थापना।
  • 1943ः टेक्सास के ह्यूस्टन में एक होटल में आग लगने से 45 लोगों की मौत।
  • 1950ः हंगरी में सभी मठों काे बंद किया गया।
  • 1965ः चीन ने भारतीय सीमा पर सेना को तैनात करने की घोषणा की।
  • 1979: ईएसपीएन (एंटरटेनमेंट एंड स्पोर्ट्स प्रोग्रामिंग नेटवर्क) की केबल टीवी पर शुरुआत स्कॉट रासमुसैन और उनके पिता बिल ने की।
  • 1998ः अंतर संसदीय यूनियन (आई.पी.यू.) का 100वां सम्मेलन मास्को में शुरू।
  • 2002ः अयाजुद्दीन अहमद बांग्लादेश के नये राष्ट्रपति बने।
  • 2004ः फिजी के विजय सिंह टाइगर वुड्स को पीछे छोड़कर विश्व के नम्बर एक गोल्फर बने।
  • 2005ः मिस्र में पहली बार राष्ट्रपति चुनाव हुआ।
  • 2006: आतंकियों ने मालेगांव में मुस्लिम दरगाह के पास ब्लास्ट किया। इसमें 37 लोग मारे गए।
  • 2012ः दक्षिण-पश्चिम चीन में भूकंप से 64 लोग मारे गए और 715 घायल हो गए।

0

Source link