business

पूर्वोत्तर के किसानों की आय में कीवी का उत्पादन बढ़ता है: तोमर | कीवी उत्पादन से खमीर के किसानों की आय में हो रही वृद्धि: तोमर

नई दिल्ली, 11 नवंबर (आईएएनएस)। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायती राज और खाद्य उद्योग मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने बुधवार को कहा है कि कीवी जैसे विदेशी फल का उत्पादन करने की दिशा में नागालैंड सहित पूर्वोत्तर के राज्य अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कीवी उत्पादन से यहां के किसानों की आय बढ़ने के साथ ही बागवानी के क्षेत्र में विस्तार हुआ है और राज्य की अर्थव्यवस्था को भी मजबूती मिली है।

कीवी की व्यावसायिक खेती को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आयोजित कार्यक्रम वेल्यू चेन क्रिएशन के लिएवी फ्रूट-फॉर्म टु फोर्क को क्लास माध्यम से संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, राज्य सरकार और कृषि मंत्रालय को नागालैंड को कीवी राज्य का दर्जा इस दिशा में कार्य करना चाहिए। कार्यक्रम का आयोजन केंद्रीय बागवानी संस्थान, नागालैंड द्वारा किया गया था।

केंद्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर ने कहा कि यह अवसर सभी को प्रसन्न करने वाला है, जब उत्तर-पूर्वी राज्य नागालैंड के किसानों ने कीवी फल के उत्पादन में अग्रणी भूमिका निभाई है। इससे नागालैंड के कृषि क्षेत्र में नए आयाम जुड़े हैं, इसका लाभ वहां के किसानों को जरूर मिलेगा।

तोमर ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत खाद्य विभाग के क्षेत्र में 10 हजार करोड़ रुपये की धनराशि का प्रावधान किया गया है। अब आवश्यकता इस बात की है कि केंद्र, राज्य व संबंधित संस्थान मिलकर इन सभी योजनाओं का लाभ किसान तक पहुंचाने के लिए कार्य करें।

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के आत्मनिर्भर भारत अभियान के मूल में भी कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था है। वोकल फॉर लोकल जस्टर्न नहीं है, यह भारतीय उत्पादों के जोड़ने का अभियान है।

उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर के राज्यों में कृषि, उद्यानिकी और खाद्य पदार्थों के क्षेत्र में विशेष ध्यान देने की जरूरत है और वहां की विशेष जलवायु एवं उत्पादकता का लाभ लेकर वहां विशेष प्रजाति की उपज की पैदावार को बढ़ाया जा सकता है। केंद्रीय कृषि मंत्री ने कीवी फल के लिए नागालैंड में अलग से कृषक उत्पादक संगठन बनाने पर भी बल दिया।

इस अवसर पर केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री श्री परशुोत्तम रूपाला ने कहा कि आज नागालैंड के किसान देश के बड़े शहरों के व्यापारियों के साथ कीवी की मार्केटिंग कर रहे हैं, यह एक सुखद संकेत है। उन्होंने कहा कि विदेशी फल हमारे यहां उपलब्ध हों और उनका आयात कम हो यह भी आत्मनिर्भर भारत अभियान की ही दिशा में एक कदम है।

मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मिजोरम और हिमाचल प्रदेश में लगभग 4,000 हेक्टेयर में लगभग 13,000 टन कीवी का उत्पादन होता है।

भारत, इटली और चिली से कीवी आरंभ करता है। इस प्रकार देश में कीवी के उत्पादन को बढ़ावा देने से शुरू पर निर्भरता कम होगी।

पीएमजे / एएनएम



Source link

Leave a Reply