business

17 अक्टूबर 2020 को पेट्रोल डीजल की कीमत | ईंधन की कीमत: नवरात्रि के पहले दिन पेट्रोल-डीजल के मूल्य में शांति, जानें आज क्या हैं कीमत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। नवरात्रि के पहले दिन देश में पेट्रोल-डीजल (पेट्रोल और डीजल) के मूल्य स्थिर बने हुए हैं। यानी कि भारतीय तेल कंपनियों (IOC, HPCL और BPCL) ने आमजन की जेब पर आज (शनिवार, 17 अक्टूबर) को कोई भार नहीं बढ़ाया है। यह लगातार 15 वें दिन को ईंधन के भाव में कोई फेरबदल नहीं हुआ है।

बता दें कि बीते महीने सितंबर में अधिकांशत: पेट्रोल-डीजल की कीमत में आमजन को राहत ही मिली है। कभी ईंधन के भाव गिरे तो कभी स्थिरता देखी गई। जबकि अगस्त में पेट्रोल और इसके पहले जुलाई महीने में डीजल के रेट में वृद्धि की गई थी। आइए जानते हैं आज के दाम ।।

सितंबर में घरेलू वाहनों की बिक्री में 26 प्रतिशत की वृद्धि हुई है

पेट्रोल की कीमत
इंडियन ऑयल (इंडियन ऑयल) की वेबसाइट के अनुसार आज देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 81.06 रुपये प्रति लीटर है। वहीं आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल 87.74 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। बात करें कल की तो यहां एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 82.59 रुपए चुकाना होगा। जबकि चैन्नई में पेट्रोल 84.14 रुपये प्रति लीटर में उपलब्ध होगा।

डीजल की कीमत
दिल्ली में डीजल की कीमत 70.46 रुपये प्रति लीटर हो गई है। वहीं मुंबई में डीजल 76.86 रुपए प्रति लीटर बेचा जा रहा है। कोलकाता में आपको एक लीटर डीजल 73.99 रुपए में उपलब्ध होगा। जबकि चैन्नई में एक लीटर डीजल के लिए आपको 75.95 रुपए चुकाना होगा।

आईसीआईसीआई बैंक की सेवाएं शुक्रवार सुबह बाधित हो रही हैं, बाद में सुचारू हुईं

ऐसा निश्चित होता है
विदेशी मुद्रा दरों के साथ आंतरिक बाजार में क्रूड की मशीनें क्या हैं, इस आधार पर रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव होता है। इन्हीं मानकों के आधार पर मार्केटिंग ऑयल मार्केटिंग कंपनियों (OMC) पेट्रोल रेट और डीजल रेट रोज तय करती हैं। इंडियन ऑयल (इंडियन ऑयल), भारत पेट्रोलियम (भारत पेट्रोलियम) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम (हिंदुस्तान पेट्रोलियम) हर रोज सुबह 6 बजे पेट्रोल और डीजल की दरों में संशोधन कर जारी करती हैं। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में एक्साइज ड्यूटी, डीलर का कमीशन और अन्य चीजों को जोड़ने के बाद तेल का दाम दोगुना तक बढ़ जाता है।

इसके अलावा बात करें राज्यों के अलग-अलग मूल्यों की तो प्रत्येक राज्य पेट्रोल व डीजल पर अलग-अलग स्थानीय बिक्री कर या मूल्य वर्धित कर (वैट) लगाते हैं। इस कारण उपभोक्ताओं के लिए राज्यों के हिसाब से डीजल और पेट्रोल की बिक्री बदल जाती हैं।



Source link

Leave a Reply