business

उपभोक्ता मुद्रास्फीति सितंबर में 8 महीने के उच्च तक बढ़ जाती है; नकारात्मक क्षेत्र में अगस्त IIP | खुदरा मुद्रास्फीति और आईआईपी: आठ महीने के उच्चतम स्तर पर पहुंची रिटेल महंगाई दर, इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन अभी भी निफ्टेटिव पार्ट में

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। खाद्य प्रोडक्ट की बढ़ती कीमतों के कारण सितंबर में फ्लिप महंगाई दर पिछले महीने के 6.69 प्रतिशत से बढ़कर 7.34% हो गई। सीपीआई अधारित महंगाई का यह पिछले आठ महीनों में दर्ज उच्चतम स्तर है। फरवरी में यह 6.58% थी खाद्य प्रोडक्ट की महंगाई दर अगस्त में 9.05% थी, जो सितंबर में 10.68% हो गई। अर्थव्यवस्था के एक अन्य प्रमुख बैरोमीटर, इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन अभी भी निगेटिव जोन में है। इसमें 8 प्रतिशत की गिरावट आई है। इसका मुख्य कारण मैन्युफैक्चरिंग, मेनिंग और पावर जनरेशन सेक्टरों का लोअर आइटम है। अगस्त 2019 में IIP में 1.4 प्रतिशत का कॉन्ट्रेक्शन देखा गया। जुलाई में इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन में 10.4 प्रतिशत की गिरावट आई थी।

पर कब्जा करें
खुदरा महंगाई दर का ट्रेंड

ये उठे और ये आई गिरावट
सेंट्रल स्टेटस्टिक्स ऑफिस के आंकड़ों के मुताबिक कंज्यूमर फूड प्राइज इन्फ्लेशन अग के 9.05% के मुकाबले 10.68% तक पहुंच गया। सब्जियों की महंगाई दर भी 11.41% से बढ़कर 20.73% हो गई है। दालों की महंगाई दर 14.44% के मुकाबले 14.67% हो गई। कपड़ों और जूतों की महंगाई दर 2.77% के मुकाबले 3.04% बढ़ी है। गिरावट की बात करें तो फुल एंड लाइट इन्फ्लेशन अगस्त के 3.10% के मुकाबले घटकर 2.87% हो गई है। अगस्त में हाउसिंग इन्फ्लेशन 3.10% था जो सितंबर में घटकर 2.83% पर पहुंच गया था। अनाज की महंगाई दर में भी मामूली गिरावट देखी गई है। महीने दर महीने के आधार पर अनाज की महंगाई दर 5.92% के मुकाबले 4.68% हो गई।

क्या होता है CPI इंडेक्स?
CPI यानि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक। यह रिटेल महंगाई का इंडेक्स है। रिटेल महंगाई वह दर है, जो जनता को सीधे तौर पर प्रभावित करती है। यह खुदरा कीमतों के आधार पर तय की जाती है। भारत में खुदरा महंगाई दर में खाद्य पदार्थों की भागीदारी की लगभग 45% है। दुनिया भर में ज्यादातर देशों में फ्लिप महंगाई के आधार पर ही मौद्रिक नीतियां बनाई जाती हैं। भारत में फ्लिप महंगाई दर में खाद्य और पेय पदार्थ से जुड़ी चीजों और एजुकेशन, कम्युनिकेशन, ट्रांसपोर्टेशन, रीक्रिएशन, अपैरल, हाउसिंग और मेडिकल कैर जैसी सेवाओं की कीमतों में आ रहे बदलावों को शामिल किया जाता है।



Source link

Leave a Reply