business

बिहार: चुनावों में फिर चमकता है होटल व्यवसाय | बिहार: चुनाव में फिर से चमका होटल व्यवसाय

पटना, 5 अक्टूबर (आईएएनएस)। कोरोना काल में संदेह के दौर से गुजर रहे बिहार का होटल व्यवसाय विधानसभा चुनाव के दौर में गुलजार नजर आ रहा है। होटल के कमरे भरे हुए हैं और लगातार बुकिंग भी हो रही है।

होटल के कमरे को बुक करने वाले ज्यादातर किसी न किसी पार्टी के नेता हैं। कई अन्य राज्यों की पार्टी के नेता तो एक महीने तक के लिए होटलों के कमरों को बुक करवा चुके हैं।

बिहार में कोरोना काल में होटल व्यवसाय पूरी तरह से ख़राब हो गया था। सस्ते से लेकर महंगें होटलों में ताला लटका हुआ था। होटल के दौरान भी होटल खुले लेकिन ग्राहकों का टोटा रहा। हालांकि चुनाव की घोषणा के बाद होटल व्यवसाय में तेजी देखी जा रही है। सस्ते से महंगें होटलों के कमरे बुक हो रहे हैं।

इस दौरान कोरोना के प्रोटोकॉल का पूरा पालन किया जा रहा है।

होटल मौर्या के प्रबंधक गिरीश सिन्हा ने स्वीकार किया कि कोरोना काल में होटल व्यवसाय को घाटा उठाना पड़ा है। विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद बंद पड़े होटल व्यवसाय में उछाल दिख रहा है, लेकिन अभी भी पुरानी स्थिति नहीं लौटी है।

उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों के लोग कमरे बुक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि होटल के हॉल में प्रेस कांफ्रेंस भी आयोजित की जा रही हैं। कोरोना के इस दौर में प्रोटोकॉल का भी पूरा पालन किया जा रहा है।

पटना में ही नहीं कई अन्य शहरों में भी होटल व्यवसाय के लिए यह चुनाव वरदान साबित हुआ है। बोधगया जैसे पर्यटक स्थलों में भी कोरोना के दौर में होटल व्यवसाय में मंदी दर्ज की गई थी, लेकिन अब इसमें सुधार हुआ है।

गया के होटल सिटी सूर्या के प्रबंधक कृष्णकांत शर्मा कहते हैं कि चुनाव का समय है। कई नेता होटल में ही राष्ट्रपति कांफ्रेंस भी बुला रहे हैं। पट से बाहर से आने वाले नेता होटल में ठहर भी रहे हैं। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि फिर भी इस बार के चुनाव में होटल व्यवसायिक मंदी से नहीं उबर बन गया है।

पटना में होटल व्यवसाय से जुड़े एक व्यवसायी कहते हैं कि होटलों में चुनावों के अलावा चुनाव संपन्न कराने वाले अधिकारियों के लिए भी कमरे और बुकिंग हुई हैं। कई होटल व्यवसायियों का कहना है कि बाहर से आने वाले टिकट के दावेदारों के साथ आने वाले उनके समर्थक इस चुनाव में कम संख्या में आ रहे हैं, इस कारण बाहर से आने वाले नेता ज्यादा कमरों की बुआईंकंग नहीं कर रहे हैं।

हालांकि, चुनाव ने बिहार में मंद पड़े होटल व्यवसायियों के चेहरे पर मुस्कान तो ला ही दी है।

एमएनपी / एसजीके



Source link

Leave a Reply