शिशु की हड्डियों को करना मजबूत है? अपनाइयां सरसों तेल की मालिश का रामबाण नुस्खान

शिशु की हड्डियों को मजबूत करने के लिए बचपन से ही सरसो तेल की मालिश करने की सलाह डॉ व घर के बड़ों के द्वारा दी जाती है। हालाँकि आप खुद भी सरसों के तेल के कई फायदों से अंजान हत्यारे हैं। इसलिए आज हम आपको सरसों के तेल से शिशु की मालिश के कुछ अनजाने फायदे बताने जा रहे हैं। यकीनन इन फायदों को जानने के बाद आप भी अपने शिशु की मालिश के लिए सरसों के तेल का ही विकल्प चुनेंगे।

शिशु के ब्लड सर्कुलेशन में सहायक

सरसों के तेल की मालिश की मदद से आप अपने शिशु की संपूर्ण सेहत में सुधार कर सकते हैं। सरसों का तेल रक्त प्रवाह को बेहतर करता है। सरसों के तेल की मालिश शिशु को एक नई दृढ़ता प्रदान करता है। साथ ही शरीर में गर्माहट बनाए रखने में भी सरसों का तेल सहायक है। यही कारण है कि बड़े बुजुर्ग भी अक्सर ठंड के दिनों में बच्चों की मालिश के लिए सरसों के तेल की सलाह देते हैं।

त्वचा से संबंधित रोग

सरसों तेल के मालिश की मदद से अपने बच्चे की सुरक्षा त्वचा संबंधी रोगों से कर सकते हैं। सरसों के तेल में मौजूद एंटीफंगल और एंटीबैक्टीरियल गुण आपके बच्चे को त्वचा से संबंधित रोगों और इन्फेक्शन से प्रोटेक्ट करते हैं।

शिशु के बाल की ग्रोथ दसवीं होगी

सरसों तेल की मदद से यदि आप अपने बच्चों के बालों की मालिश करते हैं। तो बच्चों के बालों की ग्रोथ अच्छी और जल्दी होगी। यह नहीं है कि आप मच्छरों से भी बच्चों का बचाव कर सकते हैं। क्योंकि सरसों के तेल की गंध से मच्छर दूर रहते हैं।

मालिश करने का तरीका

शिशु की मालिश करने के लिए सरसों तेल को अच्छे से उबाल लें। और इसे ठंडा करके एक बोतल में भर लें। स्नान से पहले रोज इस तेल से शिशु के सिर और शरीर की मसाज करें। आप चाहे तो इस तेल में लहसुन की कलियां भी शामिल कर सकते हैं।

डिस्क्लेमर- शिशु की मालिश हमेशा हल्के हाथों से करें। यदि आप ज्यादा ताकत के साथ शिशु की मालिश करेंगे तो शिशु की त्वचा को नुकसान हो सकता है।

Source link