कोरोना काल में शारीरिक संबंध के दौरान जरूर इन खास बातों का ध्यान रखें

सेक्स के दौरान कोरोनावायरस: कोरोनावायरस से बचाव के लिए फेस मास्क और सामाजिक दूरी सबसे जरूरी बताई जा रही है। ऐसे में कपल्स के दिमाग में कई प्रकार के सवाल उठ रहे हैं कि कोरोना काल में शारीरिक संबंध बनाना उचित रहेगा या नहीं। इस पर कनाडा के एक शीर्ष डॉ ने हाल ही में कोरोनावायरस संक्रमण (कोरोना वायरस संक्रमण) के दौरान लव मेकिंग को लेकर कुछ तरह के सुझाव दिए हैं। जो काफी हद तक मददगार साबित हो रहा है। डॉ का कहना है कि कुछ लोगों बररते हुए कोरोना काल में भी अपने पार्टनर ((साथी) के करीब जाने जा सकते हैं। या फिर शारीरिक संबंध (यौन गतिविधियों) बनाई जा सकती है।

कनाडा के जाने माने डॉ। तम थेरेसा ने हाल ही में एक मीडिया से विशेष बातचीत के दौरान बताया है कि कोरोना संक्रमण काल ​​में कपल्स को किस प्रकार की सावधानी बरतनी चाहिए। जिससे कोरोना स्प्रेडेन (कोरोना वायरस संक्रमण) की संभावना कम हो। उन्होंने इसपर बताया कि शारीरिक संबंध के दौरान फेस मास्क लगाने से को विभाजित -19 संक्रमण का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। डॉ का कहना है कि लव मेकिंग (प्यार करने) के दौरान कपल्स को किस करने से बचना चाहिए। क्योंकि इससे संक्रमण काफी तेजी से फैलते हैं।

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन नहीं है कोरोनावायरस-

डॉ। तम थेरेसा का कहना है कि कोविड -19 यानी कोरोनावायरस (कोरोना वायरस) सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन नहीं है। इसलिए वैजाइनल फ्लूइड और सीमन (शुक्राणु) से संक्रमण की संभावना काफी हद तक कम है। हालांकि तम थेरेसा का कहना है कि कोरोना काल में नए पार्टनर के साथ किसी भी प्रकार की सेक्सुअल क्रियाकलाप (यौन गतिविधियों) करना कोरोना वायरस संक्रमण (कोरोना वायरस संक्रमण) के खतरे को और भी बढ़ा सकता है।

डॉक्टर टैम थेरेसा ने आगे बताया कि, कोरोना संक्रमण काल ​​(कोरोना) में लोगों को फेस टू फेस कांटेक्ट (चेहरा संपर्क करने के लिए चेहरा) और किस (चुंबन) करने से परहेज करना चाहिए। वहाँ शारीरिक संबंध के दौरान भी ऐसा फेस मास्क (फेस मास्क) पहनना चाहिए जिसमें मुंह और नाक पूरी तरह से बंद हो। संबंध के बाद खुद के अलावा अपने पार्टनर पर भी काफी ध्यान दें। किसी भी प्रकार का लक्षण (कोरोना वायरस के लक्षण) दिखने पर तुरंत नजदीकी डॉक्टर से संपर्क करें।

Source link