भारतीयों ने अपने लीडरशिप का लो, ईशा और आकाश अंबरी को ध्यान में रखते हुए ये लोग फॉर्च्यून की अंडर40 अंडर 40 'लिस्ट' में शामिल थे।

बिजनेस डेस्क। देश के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी के बाद अब उनके बच्चों नें एक बड़ी कामयाबी हासिल कर ली है। दरअसल मुकेश अंबानी के दोनों जुड़वा बच्चों ईशा अंबर्न और आकाश अंबरी का नाम फॉर्च्यून की लिस्ट 40 अंडर 40 (40 की 40 अंडर 40 लिस्ट) में शामिल हुआ है।

इस बार फोर्च्यून ने कई मामलों की लिस्ट जारी की हैं जैसे सीई, फाइनेंस, हेल्थकेयर, पॉलिटिक्स और मीडिया और इंटरटेनमेंट। इन्ही ट्रेनिंग में से 40 40 अंडर 40 कैटगरी (फूट्यून 40 अंडर 40 लिस्ट) में ईशा अंबानी और आकाश अंबानी का नाम आया है। फोर्च्यून ने हर हालत में 40 से (फूट्यून के 40 अंडर 40 लिस्ट) कम उम्र वाले उन लोगों को शामिल किया है, जिन्होंने अपने क्षेत्र में काफी अच्छा काम किया है और अपने कारोबार को आगे बढ़ाया है।

फोर्च्यून ने अंबरी के दोनों बच्चों का नाम शामिल करने के पीछे की वजह जियो को बताया है। फॉर्च्यून का कहना है कि अंबानी परिवार के इन दो सदस्यों ने रिलायंस जियो को आगे ले जाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। इसलिए केवल इन दोनों को लिस्ट में जगह दी गई है।

बर्थडे स्पेशल: टाइम्स ईशा और आकाश अंबानी ने हमें दी सिबलिंग गोल!

फोर्च्यून ने आगे कहा है कि फेसबुक से लेकर Google तक की डील में ईशा और आकाश अंबानी का अहम रोल रहा है। दोनों ने फेसबुक के साथ 5.7 अरब डॉलर की डील को सफलतापूर्क किया है। इतना ही नहीं Google, क्वालकॉम व इंटेल जैसी कंपनियों के साथ भी रिलायंस को जोड़कर अपनी बेहतरीन लीडरशिप को साबित किया है। साथ ही फोर्च्यून ने जियोमार्ट में भी दोनों की ही भूमिका को बहुत सराहा है।

सिर्फ आकाश और ईशा अंबरी ने ही नहीं बल्कि कई और भारतीयों ने भी अपनी लीडरशिप का लोह मनवृत किया है और इस लिस्ट में अपनी जगह बनाई है, इसके अलावा एजुटेक स्टार्टअप बायजू के संस्थापक बाइजू रवींद्रन और शाओमी इंडिया के सहायक डायरेक्टर मनु कुमार जैन को भी जगह मिली। है।

मुकेश और नीता अंबानी की शादी के 7 साल बाद आईवीएफ के जरिए बच्चे ईशा और आकाश थे - लाइफस्टाइल न्यूज़

फोर्च्यून ने बायजू के संस्थापक बायजू रवींद्रन को लेकर कहा है कि रवींद्रन ने दुनिया को यह दिखाया है कि लीग से हटकर भी बिजनेस शुरू किया जा सकता है। ऑफलाइन एजुकेश कंपनी बनाना और उसे चलाना कितना संभव है ये रवीद्रन ने सभी को सीखाया है। इतना ही फॉर्च्यून ने रवींद्रन को सराहते हुए कहा है कि रवींद्रन को सिर्फ भारत तक की अपने व्यवसाय को सीमित नहीं रखना चाहिए, बल्कि अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में भी अपने कारोबार का विस्तार करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: – ऑफ़लाइन पेमेंट करने से दैनिक ज़रूर जान लें ये बात, नहीं तो हो सकता है आपका भारी नुकसान

कोरोना के कारण डूबी ऑस्ट्रेलिया की अर्थव्यवस्था, 30 साल में पहली बार आए अर्थिक संदेह की चपेट में

पोस्ट भारतीयों ने अपने लीडरशिप का लो, ईशा और आकाश अंबानी को ध्यान में रखते हुए ये लोग फॉर्च्यून की अंडर40 अंडर 40 'लिस्ट' में शामिल थे। पहले दिखाई दिया नवीनतम हिंदी समाचार, हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़, हिंदी समचार – टिमेशिंदी

Source link