कोरोना काल के बीच होने वाली परीक्षाओं के लिए सरकार ने जारी की SOP, मानने होंगे ये सभी नियम…

कोरोना परिस्थिति (कोरोना संकट) के बीच देश में अब परीक्षाएं (परीक्षाएं) हो रही हैं। ऐसे में सरकार के निर्देश के अनुसार परीक्षाओं के लिए स्टैण्डर्ड ऑपरेशन प्रोसीजर (स्टैंडर्ड ऑपरेशन प्रोसीजर) जारी किया गया है। एसओपी के अनुसार, हर छात्र को अपनी सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक आवश्यक नियम मनाए जाएंगे।

इन नियमों में सबसे पहले सेल्फ प्रोटेक्शन पर ध्यान देने को कहा गया है जिसके लिए हर छात्र को संकाय, सप्ताह सैनिटाइजर आदि दिए जाएंगे। इसके साथ ही सभी को आपस में कम-से-कम 6 फीट की दूरी बनाकर रखनी पड़ेगी। पहनाव पहनना मुख्य रूप से अनिवार्य होगा। साथ ही, बीच-बीच में हाथ धोना और सैनिटाइजर का प्रयोग करने के भी निर्देश जारी किए गए हैं।

इस पक्ष को अधिक ध्यान देना होगा
वहीं, सरकार की तरफ से कहा गया है की छींकते या खांसते हुए मुंह को कपड़े से या अपने हाथों से ढकना जरूरी है। इसके अलावा अपने स्वास्थ्य का और यदि स्वास्थ्य चमक लगे तो उसकी जानकारी देने के लिए निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा, अपने आस-पास और परिसर में थूकने पर पूरी तरह से रोक लगाई गई है, अगर कोई ऐसा करता देखा गया तो कार्यवाई भी की जा सकती है! साथ ही प्रत्येक छात्र को अपने स्मार्ट फोन में आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने को भी कहा गया है।

इसके अलावा, यूनिवर्सिटी / इंस्टीट्यूट / एग्जाम लेने वाले टीचर या प्रशासन या एग्जाम सेंटर्स में निम्नलिखित बंदोबस्त करने अनिवार्य होंगे…।

-शिमेंट जोन के छात्रों और टीचर्स को आने की इजाजत नहीं दी गई है लेकिनंतुमेंट जोन के बाहर बने एग्जाम सेंटर्स पर एग्जाम कराने की अनुमति दी गई है।

– आदेश है कि एग्जाम का समय / शेड्यूल इस तरह से बनाया जाए कि एग्जाम सेंटर्स पर भीड़ न लगे।
– सभी यूनिवर्सिटीज प्रबंधन को ऐसे प्रबंध करने होंगे कि एक कक्षा में ज्यादा छात्र न बैठ सकें।

– इसके साथ ही सबसे जरूरी नियम ये है कि एग्जाम देने वाला छात्र और एग्जाम लेने वाले टीचर को अपनी हेल्थ को लेकर एक खुद का लिखा हेल्थ स्टेटस दिखाना होगा जो एडमिट कार्ड के साथ फॉर्म की तरह दिया जाएगा।

– ही, सभी छात्रों को ये पहले से ही बताना होगा कि उन्हें एग्जाम के टाइम क्या सामान लाना है और क्या नहीं। जैसे- एडमिट कार्ड, आईडी कार्ड, फेस मास्क, सैनिटाइजर आदि।

– सभी यूनिवर्सिटीज को नियम और अनुशासन में स्थिर करने के लिए बेहतर और ज्यादा स्टाफ को तैनात करना होगा।

– एग्जाम सेंटर्स पर एंट्री और एग्जिट पर पीसी हाइजीन और थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। जो छात्र खुद के साथ अपने स्वास्थ्य का प्रमाण न ला सकता है, उन्हें फेल माना जा सकता है और प्रवेश बिल्कुल न दिया जाएगा।

– ध्यान रखना होगा कि सिर्फ बिना लक्षण वाले लोगों को ही प्रवेश करने की इजाजत होगी।

– सबसे खास, किसी को भी बिना फेस मास्क के एग्जाम सेंटर में न आने दिया जाए।

Source link