7 सितंबर से तीन फेज में शुरू होगा दिल्ली मेट्रो, ये है डीएमआरसी की पूरी योजना…।

कोरोना काल (कोरोना क्राइसिस) के बीच अब कैंसर की प्रकिया शुरू हो चुकी है। जल्दी ही यानी 7 सितंबर से दिल्ली मेट्रो भी चालू होने वाली है। इसके लिए केंद्र सरकार ने स्टैण्डर्ड ऑपरेशन प्रोसीजर (मानक संचालन प्रक्रिया) जारी कर दिया है।

सरकार द्वारा जारी नियमों के अनुसार, 7 सितंबर से मेट्रो का ट्रायल होगा और उसके एक सप्ताह बाद एक के बाद एक सभी मेट्रो लाइन्स शुरू की जाएगी। इस बारे में डेल्ही मेट्रो रेल कारपोरेशन (DMRC) ने कहा है कि शुरूआत में हम केवल एक ही लाइन खोलेंगे और मेट्रो का समय सुबह 7 बजे से 11 बजे तक और शाम 4 बजे से 6 बजे तक रखा जाएगा।

अलग गेट होगा

बहुत ही नहीं, डीएमआरसी (डीएमआरसी) ने ये भी बताया कि कुछ मेट्रो स्टेशन ही इस दौरान खुले रहेंगे और कुछ चयनित गेटों से ही प्रवेश दिए जाएंगे। बाहर निकले यानी एग्जिट के लिए भी अलग गेट होंगे। सभी यात्रियों को केवल स्मार्ट कार्ड का उपयोग किया जाता है और ऑफ़लाइन / कैशलेस पेमेंट की अनुमति होगी।

तीन चरणों में संचालन होगा

डीएमआरसी ने बताया है कि मेट्रो को तीन चरणों में शुरू किया जाएगा। पहले चरण में 7 सितंबर को मेट्रो शुरू होगी। इसमें समयापुर बादली से हुडा सिटी सेंटर तक येल्लो लाइन शुरू किए जाने की योजना है। जबकि दूसरे चरण में 9 सितंबर से तीन और लाइन्स चालू की जाएगी। इनमें पिंक लाइन, ब्लू लाइन और गुड़गांव लाइन को शुरू करने का काम किया जाएगा। इसके बाद तीसरे और अंतिम चरण में, 10 सितंबर से मेट्रो को पूरी तरह से शुरू करने की कवायत होगी और इसमें रेड लाइन (गाजियाबाद से रिचाला), बहादुरगढ़ लाइन और फरीदाबाद लाइन को चालू करने का काम किया जाएगा।

ये आवश्यक नियम हैं

मेट्रो में सफर के करने वाले हर व्यक्ति को मुखौटा पहनना अनिवार्य होगा। फिर वो मिले स्टाफ ही क्यों न हो, सभी को नियम मनाने होंगे। सरकार द्वारा जारी गाइड-लाइन के हिसाब से केवल बिना लक्षण वाले लोग ही मेट्रो में यात्रा कर पाएंगे। साथ ही सभी अन्य आवश्यक नियम भी मनाए जाएंगे। जैसे सामाजिक दूरी बनाए रखना और मेट्रो कंपटीटी से टच हो कर स्टैंड न होना।

इसके साथ ही डीएमआरसी ने कहा है कि सरकार ने 12 सितंबर के बाद सभी प्रकिया नार्मल होने पर आगे मेट्रो के फेरे बढ़ाने की अनुमति डी है लेकिन इससे पहले अभी हमें यही देखना है कि मेट्रो का पहला चरण प्रबंधित होता है या नहीं।

यह भी पढ़ें: – उत्तर प्रदेश में कोरोना के 5716 नए मामले सामने आए, सक्रिय मामलों की संख्या 56 हजार के पार

Source link