सेहत

क्रिसमस पर कैसे रखें मीठा खाने पर कंट्रोल और कैसे करें बॉडी डिटॉक्स

क्रिसमस सर्दियों के बीच पड़ने वाला एक त्योहार है. किसी भी अन्य त्योहार की तरह इसमें भी तरह तरह की चीजों का सेवन किया जाता है, जिसमें मीठा भी भरपूर होता है. यदि लिमि​ट में इन मीठे खाद्य पदार्थों का सेवन ना किया जाए तो यह स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं को बुलावा देने की तरह है. ऐसे में कुछ छोटी छोटी चीजें करके हम मीठे के ओवरडोज से बच सकते हैं.

सामान्य खानपान का रूटीन अपनाएं- त्योहार के दौरान उत्साह एवं ज्यादा काम के कारण हम एक सामान्य रूटीन एवं सामान्य खानपान नहीं कर पाते हैं, इसी कारण से कई बार आवश्यकता से ज्यादा मात्रा में खा लेते हैं. क्रिसमस के दौरान पल्म केक, रम केक, चॉकलेट, रम बॉल एवं अन्य स्वीट डिशेज का सेवन बढ़ जाता है. यदि अपने पूरे दिन के डाइट को किसी सामान्य दिन के अनुसार लिया जाए, तो इन स्वीट डिशेज की मात्रा एवं क्रेविंग को भी कम किया जा सकता है.

myUpchar के अनुसार, जो लोग मीठे खाद्य या पेय पदार्थों से छुटकारा पाना चाहते हैं उनके लिए इस आदत को रातोंरात बदलना मुश्किलभरा हो सकता है, लेकिन धीरे धीरे इसके सेवन को कम जरूर किया जा सकता है. इसके लिए शुरु में आप चाहें तो चाय या कॉफी में चीनी की मात्रा कम करें और कुछ दिन बाद चीनी को बिल्किुल बंद कर दें.

लंबे समय तक ना रहें खाली पेट- लंबे समय तक खाली पेट रहने के कारण, शरीर में ग्लूकोस की कमी हो जाती है. ऐसी स्थिति में हमें जो भी मीठी चीज दिखती है, हम ज्यादा मात्रा में खा लेते हैं. इसलिए जरूरी है कि मीठे के ओवरडोज से बचने के लिए समय पर अपनी डाइट लेते रहें और लंबे समय तक भूखे ना रहें.फाइबर युक्त लें भोजन- फाइबर युक्त डाइट हमारे पेट को लंबे समय तक भरा हुआ रखती है, साथ ही मीठे एवं अन्य जंक फ़ूड की तलब भी नहीं होने देता. इसलिए खाने के बीच बीच में फलों का सेवन करते रहें, इसके लिए अमरुद, संतरा, सेब, पपीता आदि का सेवन उत्तम रहता है. इसके साथ ही लंच एवं डिनर से पहले सलाद या सब्जियों का सूप लें, जिससे खाने के बाद के डेसर्ट की तलब को कम किया जा सके.

मीठे का ना करें लालच- क्रिसमस के दौरान मिलने वाले स्वीट डिश का इंतजार पूरे साल रहता है, ऐसे में हमें हर तरह की डिशेज का आनंद लेने का मन करता है. इन डिशेज में काफी ज्यादा मात्रा में कैलोरी, शुगर, फैट आदि होता है, जिसका ज्यादा मात्रा में सेवन करने से वजन और कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है. इसलिए इन मीठी चीजों का सेवन जितना हो सके उतना कम करें.

डेटॉक्स करने के लिए पियें अदरक और काली मिर्च की चाय- त्यौहार के समय में हम कई बार ओवरईटिंग कर लेते हैं और ऐसे में अपने शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाने, फैट बर्न करने एवं डेटॉक्स करने के लिए अदरक एवं काली मिर्च की हर्बल चाय काफी लाभदायक होती है. इस तरह के पेय पदार्थ बनाने के लिए 2 इंच अदरक और 10 काली मिर्च के दानों को अच्छी तरह से कूट लें एवं 250 एमएल पानी में उबाल लें, अब इसे तब तक गर्म करें जब तक कि यह आधा ना हो जाए. इसके बाद इस हर्बल चाय का सेवन कर लें.

वेजिटेबल डेटॉक्स सूप का करें सेवन- सर्दियों में गरमागर्म सूप का सेवन हर व्यक्ति को पसंद आता है, ऐसे में क्रिसमस के दौरान इसका सेवन शरीर को डेटॉक्स करने एवं फैट बर्न करने में काफी मदद कर सकता है. इस सूप के लिए सभी मौसमी सब्जियां जैसे की गाजर, मटर, गोभी, चुकंदर, ब्रोकोली, हरी लहसून, धनिया आदि का भरपूर मात्रा में इस्तेमाल करें और स्वास्थ्य के साथ साथ स्वाद का भी लाभ उठायें.

ताजे फल एवं सब्जियों के जूस है फायदेमंद- इस मौसम में उपलब्ध फलों एवं सब्जियों को यदि कच्चे या जूस की तरह लिया जाए, तो यह शरीर को डेटॉक्स करने एवं आंतो की सफाई में भी मदद करते हैं. यदि आप इसे जूस की तरह लेना चाहते हैं, तो इसमें संतरा, आंवला, पालक, टमाटर, चुकंदर, धनिया, गाजर व नींबू के रस का उपयोग करें और रोजाना दिन में एक बार इसका सेवन करें.

myUpchar के अनुसार, त्योहार या साधारण दिनों में चीनी का अधिक मात्रा में सेवन करने से डायबिटीज, हृदय संबंधी समस्याएं, मोटापा और चयापचय संबंधी विकार के जोखिम को बढ़ा देता है. ऐसे में यदि आप त्योहार के बाद अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहते हैं तो उपरोक्त बातों को जहन में जरूर रखें. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, मीठे की लत से छुटकारा पाने के लिए सरल तरीके पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

Leave a Reply