सेहत

Pfizer Inc announced COVID-19 first delivery programme soon will start in the 4 States of US | Coronavirus: इस देश में शुरू होने जा रही है वैक्सीन की डिलीवरी, कंपनी ने किया ऐलान

नई दिल्लीः फाइजर इंक की तरफ से कोरोना वायरस (Coronavirus) की मार झेल रहे लोगों के लिए राहत की खबर आई है. कंपनी ने अपने टीके को महामारी की रोकथाम के लिए 90 फीसदी प्रभावी बताया है. इसी बीच फाइजर इंक ने ऐलान किया है कि वैक्सीन की पहली डिलीवरी संयुक्त राज्य अमेरिका के कुछ राज्यों में होगी. 

मंहगा है वैक्सीन को स्टोर करना
कंपनी का कहना है कि वैक्सीन को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के दौरान अल्ट्रा-कोल्ड स्टोरेज की जरूरत होती है. ऐसे में अपनी वैक्सीन की पहली डिलीवरी को लॉन्च करना कंपनी के लिए एक चुनौती भरा काम है. बताया जा रहा है कि फाइजर के टीके को अल्ट्रा-कोल्ड स्टोरेज में रखना काफी महंगा है और कभी-कभी तार्किक रूप से मुश्किल भी है. खासतौर से इसका दूर राज्यों में वितरण करना काफी मुश्किल भरा काम है. सर्दियों के दौरान फाइजर के वैक्सीन को अंटार्कटिका के -70 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर रखना होगा. इस टीके को 5 दिनों तक स्टोर किया जा सकता है. 

ये भी देखें-DNA ANALYSIS: Coronavirus का सबसे कारगर टीका बनाने का दावा, जानिए कितनी असरदार है ये वैक्सीन

US के इन राज्यों में होगा वैक्सीन का वितरण
कंपनी ने मंगलवार को घोषणा की है कि वह जल्द ही पायलट प्रोग्राम्स को शुरू करने वाली है. फाइजर ने कहा, ‘हमें उम्मीद है कि हमारा वैक्सीन डिलीवरी प्रोग्राम का रिजल्ट अन्य अमेरिकी राज्यों और अंतरराष्ट्रीय सरकारों के लिए मॉडल होगा. वैक्सीन के पायलट कार्यक्रम के लिए फाइजर इंक ने अमेरिका के रोड आइलैंड (Rhode Island), न्यू मैक्सिको, टेक्सास और टेनेसी राज्यों को प्रमुख रूप से चुना है, जहां पर कोविड-19 वैक्सीन का वितरण किया जाएगा. कंपनी ने इन राज्यों की जनसंख्या में विविधता, टीकाकरण के लिए बुनियादी ढांचे को ध्यान में रखकर इन्हें चुना है. कंपनी का कहना है कि अमेरिका के इन चार राज्यों को अन्य राज्यों से पहले वैक्सीन की खुराक नहीं मिलेगी और अधिमान्य उपचार नहीं मिलेगा.

ये भी पढ़ें-संयुक्त राष्ट्र में बदलावों पर अड़ंगा लगाने वाले चीन को भारत ने फटकारा, कही ये बात

नवंबर के तीसरे सप्ताह तक, कंपनी अपनी वैक्सीन से ठीक हुए कोविड-19 के मरीजों का डेटा भी प्रस्तुत करेगी, जब इसका लास्ट ट्रायल सफल हो जाएगा. इसके बाद कंपनी वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण (Emergency Use Authorisation) के लिए आवेदन करेगी. 

90 फीसदी प्रभावी है फाइजर का टीका
गौरतलब है कि पिछले सप्ताह बायोएनटेक और सह-निर्माता फाइजर ने कहा था कि फाइजर के टीके के विश्लेषण से पता चला है कि यह 90 प्रतिशत से अधिक तक कोविड-19 से बचाने में कारगर हो सकता है. बता दें कि शुक्रवार को इजराइल ने भी फाइजर इंक कंपनी के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया, जिसके तहत COVID-19 वैक्सीन की 8 मिलियन खुराक प्राप्त होगी. प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, इस समझौते से इजराइल की आधी आबादी को कोविड-19 टीका मिल सकेगा. 

Source link

Leave a Reply