मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़ लोगों को पहुंचा रहे पौष्टिक फूड, ऐसे हुई शुरुआत | health – News in Hindi

मल्टीनेशनल कंपनी की नौकरी छोड़ लोगों को पहुंचा रहे पौष्टिक फूड, ऐसे हुई शुरुआत

1 जनवरी 2020 को सौरभ ने अपनी पत्नी रीनू, कृष्णवीर और विजय के साथ मिलकर अपना ड्रीम प्रोजेक्ट शुरू किया.

साल 2020 के मध्य तक सबसे पहले अचार, सॉस, सिरका, चटनी और वेजिटेबल एंड फ्रूट वॉश को लॉन्च किया गया. ये सभी प्राकृतिक (Natural) और हर्बल (Herbal) सामग्रियों से बने हैं. हालांकि सभी उत्पाद शाकाहारी, स्वस्थ और स्वादिष्ट हैं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 15, 2020, 10:41 AM IST

कहते हैं कि अगर कुछ कर दिखाने का मन हो तो चाहे कितनी भी बाधाएं क्यों न हो सपने (Dreams) पूरे जरूर हो जाते हैं. बस उन सपनों को पूरा करने के लिए मन में हौसला और शरीर में हिम्मत होनी चाहिए. दिमाग और दिल को कुछ तरह तैयार करना चाहिए कि हर मुश्किल आसान लगने लगे. आत्मविश्वास को कायम रखने से मुश्किल से मुश्किल काम भी चुटकियों में हो जाता है. ऐसी ही एक कहानी है IIT-IIM के पूर्व छात्र सौरभ तलवाडिया (Saurabh Talwadia) की. वह नुति फूड साइंस प्राइवेट लिमिटेड (Nuti Food Science Private Limited) के सीईओ है. उनका उद्देश्य प्रमाणिक वैदिक विज्ञानों का प्रयोग करके स्वस्थ और पौष्टिक खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ बनाना और उन्हें किफायती कीमतों पर खेत की ताजा सब्जियों (Fresh Vegetables) के साथ भारतीय मसालों (Spices) और जड़ी बूटियों (Herbs) के साथ मिश्रित करना और उन्हें सभी के लिए सुलभ बनाना है.

जैविक खेती शुरू करने के बारे में सोचा
साल 2019 तक, वह एक बहुराष्ट्रीय कंपनी के साथ एक वरिष्ठ नेतृत्व की भूमिका पर काम कर रहे थे. उनके काम में बहुत अधिक यात्रा करनी पड़ती थी और उन्होंने अपनी यात्रा के दौरान हमेशा स्वस्थ और पौष्टिक पैकेज्ड खाद्य उत्पादों को प्राप्त करना मुश्किल पाया. वह और उनकी पत्नी हमेशा स्वस्थ और रासायनिक मुक्त भोजन का उत्पादन शुरू करना चाहते थे और जैविक खेती शुरू करने के बारे में सोचते थे. वह अपने दोस्त कृष्ण वीर से मिले जिन्होंने उनके साथ मिलकर एक स्वस्थ विश्व को देखने की कल्पना की.

मैन्युफैक्चरिंग यूनिट शुरू करने का फैसलाउन्होंने उस भूमि के लिए अपनी खोज शुरू की, जहां वह विजय से मिले जो कृषि-प्रधान थे और फल और सब्जियों की खेती से अच्छी तरह वाकिफ थे. कई तरह की रिसर्च और सर्वेक्षणों के बाद उन्होंने महसूस किया कि केवल खेती से खाद्य उत्पादों में मिलावट और विषाक्त पदार्थों के उपयोग की समस्या का समाधान नहीं होगा. उन्हें आखिरी उत्पादों पर काम करने की जरूरत है जो सीधे तौर पर उपभोक्ताओं द्वारा इस्तेमाल किए जाते हैं. साल 2019 के अंत में उन्होंने एक मैन्युफैक्चरिंग यूनिट शुरू करने के लिए अपनी सारी मेहनत की कमाई को लगाने का फैसला किया. जहां वह केवल खेत के ताजे फल और सब्जियां और प्रामाणिक पारंपरिक भारतीय मसालों का इस्तेमाल करेंगे.

इसे भी पढ़ेंः मेंटल हेल्थ पर कुछ इस तरह असर करता है गांजा, नशे से हो सकता है ये नुकसान

भोजन ईश्वरीय है और पूजा के योग्य है
उन्होंने इस ब्रांड का नाम नुति रखा. आपको बता दें कि नुति एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है पूजा. भारतीय संस्कृति के अनुसार लोग मानते हैं कि भोजन ईश्वरीय है और पूजा के योग्य है क्योंकि ईश्वर की तरह, भोजन भी सृष्टि, संरक्षण और विनाश के त्रिगुण कार्य करता है. आखिरकार 1 जनवरी 2020 को सौरभ ने अपनी पत्नी रीनू, कृष्णवीर और विजय के साथ मिलकर अपना ड्रीम प्रोजेक्ट शुरू किया और स्वस्थ व्यंजनों को बनाने के लिए शोधकर्ताओं, डॉक्टरों और खाद्य वैज्ञानिकों के साथ मिलकर काम किया.

नुति फूड साइंस प्राइवेट लिमिटेड का मैन्यूफैक्चरिंग यूनिट.

प्राकृतिक और हर्बल सामग्रियों से बनी चीजें
साल 2020 के मध्य तक सबसे पहले अचार, सॉस, सिरका, चटनी और वेजिटेबल एंड फ्रूट वॉश को लॉन्च किया गया. ये सभी प्राकृतिक और हर्बल सामग्रियों से बने हैं. हालांकि सभी उत्पाद शाकाहारी, स्वस्थ और स्वादिष्ट हैं. इसलिए यह शहरी और ग्रामीण दोनों बाजारों में लोकप्रिय हो रहे हैं. हाल ही में नुति फूड साइंस प्राइवेट लिमिटेड को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSME) के इनक्यूबेटर प्रोग्राम के तहत चुना गया जो कंपनी की रचनात्मकता को बढ़ावा देने और विनिर्माण में नवीनतम तकनीकों को अपनाने में मदद करेगा.

दिल्ली-एनसीआर में मशहूर
आपको बता दें कि यह फैक्ट्री ग्रेटर नोएडा में स्थित है ताकि कंपनी दिल्ली-एनसीआर में आसानी से मशहूर हो सके और प्रमुख राजमार्गों, रेलवे और हवाई अड्डे से जुड़ सके. इसका मूल कारण ये है कि कंपनी भारत और दुनिया भर में आसानी से अपने प्रोडक्ट्स पहुंचा सके. उनकी कंपनी का प्रबंधन महिलाओं को सशक्त बनाने में विश्वास रखता है और इसलिए उनकी उत्पादन इकाई में 80 प्रतिशत से अधिक महिला कर्मचारी मौजूद हैं. उनकी कंपनी का प्रबंधन सीधे किसानों से उपज खरीदकर उनकी स्थिति को ऊपर उठाने की दिशा में भी काम कर रहा है.



Source link